Wednesday, February 27, 2019

Diabetes ke upay


Diabetes ke upay-


जब तक जीवन है तब तक बीमारियां कहां पीछा छोड़ती हैं परंतु कभी-कभी सघन प्रयासों की मदद से उन पर काबू भी पाया जा सकता है। जी हां दोस्तों, आज हम आपको एक ऐसी बीमारी के उपायों के विषय में जानकारी देंगे जो कि लगभग वर्तमान में प्रत्येक घर में सामान्य रूप से देखने को मिल जाती है और वह बीमारी है डायबिटीज। दोस्तों आज के समय में प्रत्येक व्यक्ति के खराब खानपान के कारण वे डायबिटीज का शिकार हो जातेहैं। वैसे तो अंग्रेजी इलाज में इसका कोई भी सफल इलाज नहीं है परंतु अगर हम चाहें तो प्राकृतिकऔर घरेलू तरीकों से इसका सफल इलाज कर सकते हैं। तो दोस्तों अब हम सभी जान लेते हैं कि इसका सफल इलाज किस प्रकार किया जा सकता है
diabetes ke gharelu upay,sugar ke gharelu upay,home remedies of diabetes
Diabetes ke upay

बेल के पत्तों द्वारा

                             दोस्तों इंसुलिन की मात्रा बढ़ने के कारण डायबिटीज हो जाती है और बेल के पत्ते इंसुलिन की मात्रा को कम करने का गुण रखते हैं। अतः आप लगभग 15 बेल के पत्तों को लीजिए और एक गिलास पानी में उन्हें डालकर लगभग 10 मिनट तक उबाल लीजिए अब इस पानी को ठंडा होने के लिए कुछ देर रखा रहने दीजिए। ठंडा हो जाने पर आपइसे कपड़े याछन्नी की मदद से छानकर दिन में दो बार सुबह और शाम प्रयोग कीजिए। सुबह खाली पेट ही इसका सेवन करने की कोशिश कीजिए दोस्तों यदि आप ऐसा 2 महीने तक प्रतिदिन करेंगे तो आपकी डायबिटीज गारंटी के साथ 100% जड़ से खत्म हो जाएगी। दोस्तों कभी कभी बहुत पुरानी डायबिटीज में इसे 2 महीने से ज्यादा भी समय लग सकता है परंतु यह उपाय 20 साल पुरानी डायबिटीज के लिए भी रामबाण उपाय है

बादाम, चने और इंद्र जौ से– 

                                       दोस्तों अमूमन बादाम तो हम सभी के घरों में ही बहुत ही आसानी से उपलब्ध हो जाते हैं और इसके अलावा भुने हुए चने और इंद्रजौ आपको किसी भी पंसारी की दुकान पर मिल जाएंगे। दोस्तों यह इन्द्रजौ कोई भी जौ की नस्ल नहीं है बल्कि एक पेड़ की छाल को इन्द्रजौ कहा जाता है।अब दोस्तों इसके द्वारा डायबिटीज के इलाज के लिए आप इन सभी चीजों को थोड़ी थोड़ी मात्रा में लेकर पाउडर बना लीजिए और किसी डिब्बे में बंद करके रख दीजिए। अब दोस्तों प्रतिदिन खाना खाने के बाद एक चम्मच पाउडर को रूखा ही खा लीजिए। ऐसा करने से आपकीडायबिटीज बहुत जल्दी ठीक हो जाएगी
और पढ़ें (badam ke fayde)

अदरक हल्दी और दालचीनी के द्वारा-



                                                     इसके द्वारा डायबिटीज के इलाज के लिए आप एक से डेढ़ लीटर पानी में इन तीनों चीजों को अच्छी तरह पीसकर डालें और उस पानी को तब तक उबालें जब तक कि वह आधा ना हो जाए। आधा पानी रह जाने के पश्चात इसे ठंडा होने रख दे अब इसे दिन में दो बार खाना खाने से पहले पीयें। यदि आप ऐसा करेंगे तो आपकी डायबिटीज जल्दी जड़ से समाप्त हो जाएगी। दोस्तों इस उपाय का उपयोग हफ्ते में तीन बार से ज्यादा ना करें इसके अलावा गर्भवती महिलाएं इस उपाय का बिल्कुल भी उपयोग ना करें या फिर जिन लोगों का हाल फिलहाल में ही किसी भी प्रकार का ऑपरेशन हुआ है या होने वाला है वह भी इस नुस्खे का उपयोग ना करें

करेले का जूस

                      दोस्तों जिस व्यक्ति को डायबिटीज हो गई है फिर चाहे वह 2 साल से हो या 20 साल से उसके लिए करेले का जूस तो अमृत सामान है। दोस्तों यदि आप सुबह एक गिलास करेले का जूस कुछ दिनों तक नियमित रूप से सेवन करेंगे तो डायबिटीज की बीमारी को आपका साथ छोड़ना ही पड़ेगा

योगासन के द्वारा

                         डायबिटीज के उपचार के लिए यह सभी प्राकृतिक उपाय तो बहुत जरूरी है परंतु उनके साथ योगासन भी बहुत अधिक जरूरी है। इसके लिए आप कपालभाति, अनुलोम विलोम, मंडूकासन आदि करें आपको अवश्यही डायबिटीज की समस्या से छुटकारा मिल जाएगा

सदाबहार के फूल द्वारा

                                  यह फूल गुलाबी रंग का फूल होता हैऔर यह पूरे साल आता है इसी कारण से सदाबहार कहते हैं क्योंकि इसकी बहार कभी भी नहीं जाती। अब दोस्तों इसके द्वारा डायबिटीज के इलाज के लिए आप एक गिलास में गरम पानी लीजिए और 5 मिनट के लिए उसमें तीन से चार फूलों को डाल दीजिए अब 5 मिनट बाद उस पानी को छान लीजिए और थोड़ा गुनगुना ही पीजिए। दोस्तो ऐसा करने से डायबिटीज में बहुत अधिक लाभ होता है। कुछ दिनों तक नियमित सेवन से डायबिटीज जड़से भी समाप्त हो जाती है दोस्तों इस नुस्खे का उपयोग सुबह के समय करना अधिक लाभकारी होता है
diabetes ke gharelu upay,sugar ke gharelu upay,home remedies of diabetes
Diabetes ke upay

तुलसी के पत्तों द्वारा

                           दोस्तों तुलसी के पत्ते तो हर रोग में बहुत ही लाभप्रद हैइसमें एंटीऑक्सीडेंट गुण पाया जाता है जिसकाकारण यह डायबिटीज के इलाज में भी बहुत अधिक सहायक है आप दिन में किसी भी समय इसके पत्तों को चवाते रहिए ऐसा करने से बहुत जल्दही डायबिटीज रोग ठीक हो जाता है
और पढ़ें (Tulsi ke fayde)

कालेचने, साबुत मूंग और मेथी से

                                              दोस्तों इसके द्वारा डायबिटीज के इलाज के लिए आप एक कटोरी में रात में दो चम्मच मेथी और दूसरी कटोरी में आधी आधी मुट्ठी काले चने और मूंग पानी में भिगोकर रखें। अब सुबह उठने के बाद सबसे पहले आप मेथी वाले पानी को पिए और फिर ऊपर से मेथी खूब चबा चबाकर खाएं लगभग 30 मिनट बाद जो आपने चने और मूंगे भिगोई हुई थी उसका पानी फेंक दें और उन दोनों को भी खूब चबा चबाकर खाएं। इसके दौरान आप एक बात का ध्यान अवश्य रखें कि दोनों चीजों को खाने के बाद लगभग डेढ़ घंटे तक और कोई भी चीज ना खाएं और ना ही पीये। अगर आप इसी प्रकार इस उपाय का प्रतिदिन उपयोग करते रहेंगे तो 2 माह के अंदर ही डायबिटीज में लाभ हो जाएगा और साथ ही साथ काले चने और मूंग के सेवन से आपको पूरे दिन ऊर्जा भी बनी रहेगी

कलौंजी के द्वारा

                          इसका अधिकतर उपयोग अचार बनाने में किया जाता है परंतु बहुत कम लोग ही यह बात जानते हैं कि इसके द्वारा डायबिटीज का सफल इलाज किया जा सकता है। इसके लिए आप आधे कप पानी में लगभग 5 ग्राम कलौंजी को डालकर उबाल लें और तब तक उबालें जब तक कि पानी आधा ना हो जाए और आप इस पानी को बिना छाने प्रतिदिन सुबह खाली पेट इस्तेमाल करें ऐसा करने से डायबिटीज जड़ से समाप्त हो जाती है

क के पत्ते द्वारा

                         सफेद फूल वाले आक के पत्ते का उपयोग डायबिटीज के इलाज में किया जाता है। इसके लिए आप इसके पत्ते को रात में सोते समय उलटी साइड से अपने पैर के तलवे बाँध लीजिए और फिर सो जाइए और सुबह इसे हटा दीजिए दोस्तों अगर आप 45 दिन तक इसी प्रकार नियमित रूप से इसका उपयोग करेंगे तो अवश्य ही डायबिटीज की बीमारी से छुटकारा पा जाएंगे। परंतु दोस्तों यह सब करते समय आप इसके पत्ते का दूध गलती से भी अपनी आंख में ना लगाएं अन्यथा आपकी आँख की रोशनी तुरंत हमेशा के लिए चली जाएगी

लौकी के जूस द्वारा

                             दोस्तों लौकी का जूस बनाने के लिए आप हमेशा स्वाद में थोड़ी मीठी लौकी का ही उपयोग करें। इसका जूस बनाने के बाद आप उसमें थोड़ा सा आंवले का जूस भी मिला दे बस आपका नुस्खा तैयार हो गया अब दोस्तों आप इसे दिन में किसी भी समय पी लीजिए और डायबिटीज को हमेशा के लिए अपनी जिंदगी से ट्रांसफर कर दीजिए

मखाने के द्वारा

                   दोस्तों मधुमेह को जड़ से खत्म करने के लिए आप नियमित रूप से कुछ दिनों तक मखाने का सुबह सुबह उपयोग करें क्योंकि प्राकृतिक रूप से इंसुलिन को बनाने में मदद करता है। जिस कारण डायबिटीज का प्रभाव कम होने लगता है


Tuesday, February 26, 2019

Beetroot ke fayde


Beetroot ke fayde-


दोस्तों प्रत्येक अच्छे से अच्छा डॉक्टर यह बात तो हर रोग में कहता है कि सलाद का उपयोग अवश्य करें क्योंकि सलाद में वह सभी पोषक तत्व भरपूर मात्रा में उपलब्ध हो जाते हैं जो हमारे शरीर को आवश्यक है परंतु सलाद में यदि बात चुकंदर की हो तो तो बात ही निराली है। जी हां दोस्तों चुकंदर एक ऐसी चीज है जो बहुत सी दृष्टि से हमारे शरीर के लिए बहुत अधिक उपयोगी है क्योंकि दोस्तों आज की पोस्ट इसी के ऊपर हैं अतः हम आपको अधिक से अधिक जानकारी देने का इस विषय में प्रयास करेंगे
chukander ke fayde, blood kaise badaye
Beetroot ke fayde

खून को बढ़ाने में 

                          दोस्तों खून कोबढ़ाने में चुकंदर बहुत ही अधिक फायदेमंद है। क्योंकि इसमें आयरन की भरपूर मात्रा पाई जाती है अतः इसी कारण इससे बहुत जल्दी खून में वृद्धि होती है। दोस्तों यदि किसी व्यक्ति को खून की कमी है तोइसेउसका सेवन अवश्य करना चाहिए यदि आप इसमें गाजर मिलाकर तब जूस बनाएं तो इस स्थिति में यह और भी अधिक फायदेमंद होता है।

सौंदर्य के लिए

                   दोस्तों सुंदरता पाने के लिएचुकंदर एक बहुत ही बेहतरीन उपाय हैं। यदि आपके चेहरे पर दाग धब्बे हो गए हैं, मुंहासे हो गए हैं, आप एकदम टमाटर जैसे लाल गाल चाहते हैं तो इसके लिए आप एक चुकंदर को छोटे-छोटे टुकड़ों में काट लें और फिर इसमें दो चम्मच दही और एक चम्मच ग्लिसरीन मिलाकर अच्छी तरह मिक्सी में पीस लें और अब इस पेस्ट को फेस पैक की तरह अपने चेहरे पर लगाकर लगभग 30 मिनट तक हल्के हल्के स्क्रब करने के बाद लगा रहने दें और 30 मिनट के बाद जब यह सुख जाए तब इसे गुनगुने पानी से धो लें। दोस्तों यदि कुछ दिन तक आपने इसका इस प्रकार उपयोग कर लिया तो आपकी स्किन इतनी चमकदार हो जाएगी कि आप सोच भी नहीं सकते और आपके गाल तो टमाटर से भी ज्यादा लाल हो जाएंगे
और पढ़े (Gora nikhar pane ke upay)



ह्रदय के लिए

                  जैसा कि आप जानते हैं चुकंदर खून बढ़ाने और सौंदर्य को निखारने में बहुत अधिक उपयोगी है परंतु इसके साथ-साथ यह हृदय के लिए बहुत ही अधिक फायदेमंद है। यदि कोई व्यक्ति इसके जूस का नियमित रूप से सेवन करता है तो उसको दिल का दौरा आने की संभावना काफी हद तक कम हो जाती है

कैंसर को रोकने में

                            जैसा कि हम सभी जानते हैं चुकंदर में काफी अधिक मात्रा में आयरन उपस्थित होता है जिस कारण यह खून को बढ़ाने में सहायक है परंतु इसके साथ-साथ इसमें बितासाइनिंन भी पर्याप्त मात्रा में उपस्थित होता है जो कि कैंसर से लड़ने में मदद करता है।



यादाश्त तेज करने में

                               जिन व्यक्तियों को या विद्यार्थियों को कुछ भी याद रख पाना मुश्किल रहता है उसके लिए उन्हें चुकंदर का सेवन करना चाहिए क्योंकि चुकंदर में नाइट्रेट की मात्रा भी होती है जो हमारे शरीर में पहुंचकर नाइट्रिक ऑक्साइड में परिवर्तित हो जाता है और यही नाइट्रिक ऑक्साइड मस्तिष्क की कोशिकाओं को संवाद करने के लिए उत्साहित करता है जिससे याददाश्त तेज होने लगती है

हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए

                                                चुकंदर में प्रचुर मात्रा में कैल्शियम भी पाया जाता है और यह बात तो हम सभी जानते हैं की कैल्शियम हड्डियों को मजबूत बनाता है। अत: उन व्यक्तियों को चुकंदर का सेवन अवश्य करना चाहिए जिनके जोड़ों में अक्सर दर्द रहता है, ज्यादा चल फिर नहीं मिलता हो क्योंकि यह सभी समस्याएं तभी होती हैं जब हड्डियां कमजोर हो जाते हैं
chukander se kare bahut se rogo ka ilaz, red cheeks kaise paye
Beetroot ke fayde

लीवर के लिए

                       चुकंदर में कैल्शियम, विटामिन बी, एंटी ऑक्सीडेंट और लोहे जैसे तत्व पाए जाते हैं और यह सभी तत्व हमारे लिवर के लिए बहुत ही अधिक फायदेमंद है जो भी व्यक्ति प्रतिदिन चुकंदर का सेवन करता है उसका लीवर मजबूत बना रहता है और पाचन तंत्र भी मजबूत बना रहता है।

ऊर्जा के स्तर में वृद्धि

                           जो व्यक्ति थोड़े से काम को करने में ही थक जाते हैं या जिन्हें कमजोरी की वजह से थकान हमेशा महसूस होती है उन्हें प्रतिदिन लगभग आधा लीटर चुकंदर का जूस अवश्य पीना चाहिए। चुकंदर का जूस उनकी मांसपेशियों को अधिक समय तक कार्य करने के लिए कुशल बनाता है, जिससे उनकी उर्जा में वृद्धि होने लगती है

डायबिटीज के लिए

                           डायबिटीज ऐसी बीमारी हैजो जिंदगीभर साथ नहीं छोड़ती परंतु क्या आप जानते हैं कि चुकंदर के द्वारा डायबिटीज को जड़ से खत्म किया जा सकता है चुकंदर में उपस्थित फाइबर हाइपोग्लाइसीमिया को कम कर देता है जिससे डायबिटीज खत्म हो जाती है। इसके लिए दोपहर के खाने के बाद चुकंदरका जूस पीना सबसे अधिक लाभकारी है।

गर्भवती महिला के लिए – 

                                  चुकंदर में नाइट्रेट पाए जाने के कारणयह गर्भवती महिलाओं के लिए बहुत अधिक फायदेमंद है। इसमें फोलिक एसिड पाया जाता है जो गर्भावस्था के दौरानसबसे अधिक आवश्यक तत्वहै। फोलिक एसिड के द्वारा बच्चे में न्यूरल ट्यूब का विकास भलीभांति होता हैअतः कम से कम एक चुकंदर का उपयोगतो गर्भावस्था के दौरान अवश्य करना चाहिए

एनीमिया के लिये

                       अक्सर खून में आयरन की कम मात्रा हो जाने पर एनीमिया स्वाभाविक रूप से हो जाता है क्योंकिआयरन की कमी को पूरा करने के लिए चुकंदर से बेहतर उपाय कोई नहीं है। अत: एनीमिया से ग्रसित रोगी को प्रतिदिन 500ml चुकंदर के जूस का सेवन अवश्य करना चाहिए इसके अलावा हरी सब्जियों में भी आयरन की मात्रा पाई जाती है अतः आप साथ ही साथ उनका भी सेवन करें

किसी भी उपाय के दौरान तेज मिर्च मसाला, तली हुई चीजों, जंक फूड आदि का कम से कम इस्तेमाल करें। दोस्तों यदि आप इन बातों का इलाज के दौरान ध्यान रखेंगे तो मैं गारंटी देता हूं कि प्रत्येक इलाजपूर्ण रूप से लाभ प्रदान करेगा।


तो दोस्तों मैं आशा करता हूं यह सभी उपाय आप सभी के लिए बहुत ही उपयोगी सिद्ध हो और आप सभी का प्यार और स्नेह मुझे इसी प्रकार मिलता रहे।
औरपढ़े

Asthma ke upchar

asthma ke upchar in hindi-


स्थमा एक ऐसी बीमारी है जो व्यक्ति की प्रत्येक क्रिया को बाधित कर देती है। इसका प्रमुख प्रभाव व्यक्ति के श्वसन मार्ग अर्थात श्वास नली पर पड़ता है जिस कारण उसकी ्वसन नली में सूजन आ जाती है सामान्यतया इसे दमा के नाम से भी जाना जाता है और यह अधिकतर अनुवांशिक या पर्यावरणीय कारकों के द्वारा ही होता है।वैसे तो इसकाएलोपैथी मेंइसकाइलाजहै परंतु उससे यहजड़से खत्म नहीं हो पाता है। इसलिए आज हम आपको ऐसे घरेलू उपाय बताएंगे जो अस्थमा को जड़ से खत्म कर देंगे तो चलिए अब उन सभी उपायों को वर्णित कर लेते हैं
asthma treatment, dama ke gharelu upay
asthma ke upchar


प्याज, अदरक, तुलसी और शहद से

                                                   दोस्तों यह सभी चीजेंआपको बहुत ही आसानी से अपने घर और रसोई में ही मिल जाएंगी।अब इसके द्वारा औषधि बनाने के लिए आधा प्याज, छोटा सा अदरक का टुकड़ा और चार से पांच तुलसी के पत्ते को मिक्सी में अच्छी तरह पीस लीजिए और अब इस पेस्ट को अच्छी तरह कपड़े के माध्यम से छानकर जूस निकाललीजिये। अब आधे गिलास पानी गर्म करके उसमें इस जूस को मिलाकर उसमें दो चम्मच शहद मिला लीजिए अब इस जूस को प्रतिदिन सुबह नाश्ते के साथ सेवन कीजिए। प्रतिदिन ऐसा करने से फेफड़ों की नली में आई सूजन कम होने लगती है और अस्थमा ठीक होने लगता है। एक बात याद रखें कि यह सभी उपयोग की गई सामग्री केवल एक बार का जूस बनाने के लिए ही है क्योंकि आपको प्रतिदिन इसका सेवन करना है अतः प्रतिदिन आपको इसी प्रकार जूस बनाना है और इसी प्रकार उसका सेवन करना है
और पढ़े (Tulsi Ke Fayde In Hindi)

शहद और भीमसेनी कपूर द्वारा

                                            सामान्यतया शहद तो आपको घर में ही उपलब्ध हो जाएगा और भीमसेनी कपूर आपको बहुत ही आसानी से किसी भी पंसारी की दुकान पर मिल जाएगा। दोस्तों यह भीमसेनी कपूर पूजा में प्रयोग किए जाने वाले कपूर से कई गुना अच्छी क्वालिटी का होता है दोस्तों इस से हम जो भी है नुस्खा तैयार करेंगे उसे हमें इन्हेलर की भांति उपयोग करना है।नुस्खा बनाने के लिए आप दो चम्मच शहद में दो चम्मच भीमसेनी कपूर का चूरा बनाकरमिला लीजिए और अब इसे किसी कांच या प्लास्टिक के जार में रखलीजिये। अब आपको इसे 1 से 2 घंटे के अंतराल में दो से चार बार गहरी सांस लेकर सूंघतेरहना है और सूंघने के पश्चात जार का ढक्कन बंद अवश्य कर दें वरना इसकी गुणवत्ता कम हो जाएगी। दोस्तो ऐसाआपको प्रतिदिन तैयार करना है और उसे पूरे 1 दिन तक इसी प्रकार इस्तेमाल करना है। अस्थमा को तो यह जड़ से खत्म कर देता हैऔर साथ ही साथयहनुस्खा बंद नाक, सिर दर्द, जुकाम और जोड़ों के दर्द में भी फायदा करता है। इसे सभी रोगों में इसी प्रकार उपयोग किया जाता है

अदरक, नींबू, दालचीनी, शहद और लाल मिर्च पाउडर द्वारा-

                                                                                   दोस्तों दालचीनी और लाल मिर्च पाउडर आपको बाजार में उपलब्ध हो जाएगा परंतु एक बात याद रखें कि लाल मिर्च पाउडर घर में इस्तेमाल होने वाला उपयोग नहीं करना है। उसकी जगह आपकोकायेन पेपर का इस्तेमाल करना है।जोकि आपको बहुत ही आसानी से किसी भी ऑनलाइन साइट पर मिल जाएगा अथवा आपकी सुविधा के लिए मैंने नीचे लिंक दिया हुआ है आप वहां से जाकर ऑर्डर कर लीजिएगा। ऑर्डर करने के लिए लिंक पर क्लिक करें।
अब आप सभी सामग्री एकत्रित करने के पश्चात डेढ़कपपानी को अच्छी तरह बॉयल करें और उसे एक कांच के गिलास में कर ले। अब इस पानी में आप आधा चम्मचकायेनपेपर पाउडर, आधा चम्मच दालचीनी पाउडर, एक चम्मच अदरक का रस, एक चम्मच नीबू का रस और दो चम्मच शहद मिलाकर अच्छी तरह मिक्स कर ले।अब इस ड्रिंक को प्रतिदिन रात को सोने से पहलेचाय की तरह उपयोग करें। ऐसा करने से फेफड़ों की नालियों में आई सूजन और उन में जमा हुआ कफ भी कम हो जाता है औरअस्थमा कुछ ही दिनों में जड़ से समाप्त हो जाता है

योगासन के द्वारा

                           दोस्तों योगासन के द्वारासभी प्रकार के रोगों का इलाज किया जा सकता है परंतु प्रत्येक रोग के लिए जिस प्रकार एक विशेष दवा होती है उसी प्रकार विशेष आसन भी होते हैं। जो भी व्यक्ति अस्थमा से ग्रसित है उसे सर्वांगासन, अनुलोम विलोम, कपालभाति, भुजंगासन,उज्जयी प्राणायाम और भ्रामरी प्राणायाम को करना चाहिए। यह सभी हमारे फेफड़ों को और श्वसन तंत्र को मजबूत बनाते हैं जिससे अस्थमा भी समाप्त हो जाता है। इसके साथ साथ अस्थमा के रोगी को सुबह सुबह 1 घंटे की धूप में अवश्य बैठना चाहिए ऐसा करने से फेफड़ों की नलियों की सूजन स्वत: कम होने लगती है

लोंग और शहद के द्वारा

                                    इस नुस्खे को तैयार करने के लिए आप लगभग 125ml पानी में 4 से 5 लोंग डालकर गर्म करें गर्मकरने के दौरान एक बात याद रखें कि गर्म तब तक करना है जब तक की पानी का रंगभूरा ना हो जाए।भूरा होने के बाद इसे कुछ देर ठंडा होने दें और ठंडा होने के पश्चात इसमें एक चम्मच शहद को अच्छी तरह मिला लें। एक बात याद रखें कि शहद को गर्म पानी में मिलाकर इस्तेमाल ना करें क्योंकि यह आपका वजन कम कर देगा। हल्के गुनगुने पानी में ही मिलाएं और मिलाने के पश्चात इसे छान ले और फिर सुबह सुबह नाश्ते से पहले इसे इस्तेमाल करें लगभग 1 महीने तक इसका इस्तेमाल करने पर अस्थमा जड़ से खत्म हो जाता है

मेथी पाउडर और अदरक के रस द्वारा – 

                                                      दोस्तों इसको आपको सुबह सुबह ही सेवन करना है। इस नुस्खे को बनाने के लिए आप चार चम्मच अदरक के रस में आधा चम्मच मेथी पाउडर अच्छी तरह मिला लें और इसे सुबह सुबह पियें। दोस्तों कुछ दिन तक लगातार ऐसा करने से अस्थमा जड़ से खत्म हो जाता है
asthma ke gharelu upay, asthma ke ramban upay
asthma ke upchar


दालचीनी और गुड़ से

                               दालचीनी भारत में बहुत ही प्रचलित मसाला है परंतु बहुत कम लोग इस बातको जानते हैं कि इससे अस्थमा का सफल इलाज हो सकता है। दोस्तों इसके द्वारा अस्थमा का इलाज करने के लिए आप थोड़े से दालचीनी पाउडर में थोड़ा सा गुड़काचूरा अच्छी तरह मिला लेऔर फिर इसे अच्छी तरह चबा चबाकर खाएं और दोस्तों जब यह खत्म हो जाए तब इसके ऊपर थोड़ा सा नारियल भी खूब चबाकर खाएं। इस नुस्खे का उपयोगआपको दिन में दो से तीन बार करना है यदि आप इसे इसी प्रकार उपयोग करेंगे तोअस्थमा इसके इस्तेमाल से अवश्य ही जड़ से समाप्त हो जाएगा।

आंवला और शहद से– 

                                दोस्तों इस नुस्खे का उपयोग हमें दिन में सिर्फ दो बार ही करना है सुबह उठने के तुरंत बाद और एक बार रात में सोने से पहलेदोस्तोंइसमेंहमे एक चम्मच आंवले के रस को लेना है और उसे एक चम्मच शहद के साथ मिलाकर सेवन करना है। यदि आप इस नुस्खे का उपयोग इसी प्रकार करते रहेंगे तो अवश्य ही आप अस्थमा से मुक्ति पा लेंगे।

सहजन की पत्तियों से

                             दोस्तों इसके लिए हमें 12-15 सहजन की पत्तियों को पीसकरएक गिलास पानी में उबालकर जूस बना लेना है और अब इस जूसमें तीन से चार काली मिर्च और एक नींबू का रस और स्वादानुसार नमक डालें।अबइसतैयारजूसको दिन में दो बार सोने से पहले और जागने के बाद उपयोग करें और जल्द ही अस्थमा में फर्क महसूस करें। 

हल्दी और सफेद फिटकरी से– 

                                           इसके द्वारा अस्थमा के इलाज के लिएसर्वप्रथम हमें फिटकरी को भूनना है और भुनने के पश्चात उसका पाउडर बना लेना है।अबहमें दो चम्मच पाउडर में दो चम्मच हल्दी को मिलाना है बसइसप्रकारयहनुस्खा तैयार हो गया। अब हमें इस तैयार नुस्खे को थोड़ा थोड़ा करके दिन में दो बार गर्म पानी के साथ उपयोग करना है। प्रतिदिन इसी प्रकार यदि आप इस नुस्खे का उपयोग करते रहेंगे तो आपका अस्थमा पूर्ण रूप से ठीक हो जाएगा।

परंतु दोस्तों जैसा कि मैं हमेशा कहता हूं कि आप कितना भी महंगे से महंगा इलाज क्यों न करवालें परंतु यदि आप परहेज नहीं करेंगे तो सब कुछ व्यर्थ है। तो इसी कारण आप इन 10 उपायों में से कोई भी उपाय प्रयोग में लाएं परंतु किसी भी उपाय के दौरान तेज मिर्च मसाला, तली हुई चीजों, जंक फूड आदि का कम से कम इस्तेमाल करें। विशेषकर सुगंध वाली चीजों से दूर रहें सिगरेट आदि धुँआयुक्त चीजों से दूर रहने का प्रयास करें। अधिक घुटन वाली जगह में ज्यादा देरनरहें। दोस्तों यदि आप इन बातों का इलाज के दौरान ध्यान रखेंगे तो मैं गारंटी देता हूं कि प्रत्येक इलाजपूर्ण रूप से लाभ प्रदान करेगा।

तो दोस्तों मैं आशा करता हूं यह सभी उपाय आप सभी के लिए बहुत ही उपयोगी सिद्ध हो और आप सभी का प्यार और स्नेह मुझे इसी प्रकार मिलता रहे।



Thursday, February 21, 2019

kidney stone ke upay


kidney stone ke upay-


बीमारियां तो प्रत्येक व्यक्ति के जीवन में आती ही रहती हैं क्योंकि जीवन में उतार चढ़ाव बहुत जरूरी है परंतु कभी-कभी कुछ बीमारियां ऐसी भी होती हैं जो व्यक्ति के लिए बहुत अधिक दुखदायी बन जाते हैं और उनमें से एक बीमारी है पथरी। दोस्तों पथरी चाहे पित्त की हो या गुर्दे की दोनों ही बहुत कष्टदायक होती हैं। दोस्तों पित्त की पथरी के निकलने की अपेक्षा तो बहुत कम ही रहती है उसको तो ऑपरेशन द्वारा ही इलाज संभव है परंतु गुर्दे की पथरी तो 100% यदि आप घरेलू  उपायोंको अपनाएं तो निकल ही जाती है। तो दोस्तों मैं उज्जवल वैश्य आप सभी के लिए एक बार फिर से उपयोगी जानकारी प्रस्तुत कर रहा हूं आशा है यह आपके बहुत अधिक काम में आएगी। दोस्तों आज हम पथरी को घरेलू उपायों के माध्यम से सही कैसे करें इस पर चर्चा करेंगे।
kidney stone ke gharelu upay, stone ko thik kaise krein
kidney stone ke upay

प्याज के द्वारा

                    दोस्तों प्याज तो आपको बहुत ही आसानी से अपने घरों में ही उपलब्ध हो जाएगा।इसके लिए आपको एक प्याज को लेना है और उसे एक बर्तन में छोटा-छोटा काट लेना है अब इसमें एक गिलास पानी लेकर इसे गैस पर थोड़ी देर तकउबलने देना है और जब यह उबल जाए तब इसे थोड़ा ठंडा होने दें अब इसमें मिश्री मिलाएं(याद रखें चीनी का उपयोग नहीं करना है) और इसको मिक्सी में पीस लें और अब इसे छानकर जूस अलग कर ले अब इसमें आप एक नींबू काटकर उसका रस इसमें निचोड ले और अब इस रस को दिन में किसी भी समय पी ले ऐसा प्रतिदिन करने से पथरी ठीक होजाएगी।

भुंट्टो के रेशों द्वारा

                           दोस्तों भुंट्टो या मक्का भारत में बहुत ही प्रचलित हैऔरलगभग घर घर में इसका सेवन किया जाता है परंतु 99% लोग यह नहीं जानते किइसके द्वारा पथरी का सफल इलाज किया जा सकता है। इसके लिए आप एकभुनता लीजिए और उसके ऊपर का हरा छिलका हटाने के बाद उस पर जो बालों जैसे रेशे हैं उनको तोड़ कर उन्हें एक बर्तन में एक गिलास पानी के साथ उबाल लें और जब यह पानी आधा रह जाए तब इसे छानकर दिन में किसी भी समय पी ले, प्रतिदिन ऐसा करने से 100% गुर्दे की पथरी निकल जाती है

नींबू और जैतून तेल से

                                नींबू और जैतून का तेल पथरी के इलाज में बहुत अधिक लाभकारी है इसके लिए आप एक चम्मच नींबू के रस में एक चम्मच जैतून का तेल मिलाकर प्रतिदिन दिन में किसी भी समय उपयोग करें। लगभग डेढ़ महीने तक इसका प्रतिदिन उपयोग करने से गुर्दे की पथरी हमेशा के लिए ठीक हो जाती है

करेले का जूस

                       दोस्तों करेले का जूस स्वास्थ्य के लिए अमृत समान है भले ही यह कड़वा होता है परंतु बड़े बूढ़े ने कहा है कि कड़वी चीज़ ही जल्दी सही करती है दोस्तों इसके द्वारा पथरी तो ठीक हो ही जाती है साथ ही साथ यह डायबिटीज को भी जड़ से खत्म कर देता है। शरीर में पथरी यूरिक एसिड के गाढ़ा होने के कारण होती है जिसमें कैल्शियम ऑक्सलेट बनकर एक स्थान पर इकट्ठा होने लगती है और यही पथरी का रूप ले लेता है इसके लिए करेले का जूस पीने से यह यूरिक एसिड को पतला कर देता है और पथरी अपने आप ही निकल जाती है

मूली के रस से

                      दोस्तों पथरी रोग में मूली का रस रामबाण औषधि है इसके लिए आप मूली को कसकर उसका रस निचोड़ लें और जितना अधिक से अधिक हो सके उसे पिए ऐसा करने से बहुत ही जल्द पथरी निकल जाते हैं
stone ko thik krne ke gharelu upay, kidney stone treatment
kidney stone ke upay

बेल के जूस द्वारा

                          दोस्तों बेल के जूस से पथरी का इलाज किया जा सकता है। इसके लिए आपको एक बेल लेना है याद रखें कि बेल पूरी तरह से पका हुआ होना चाहिए।अब आप इस बेल को तोड़ लीजिए और उसके सभी बीजों को अच्छी तरह निकाल दीजिए अब इसके गूदे को निकालकर मिक्सी में पीस कर जूस बना लें और इस जूस को अधिक से अधिक प्रयोग में लाएं दोस्तों इसका इसी प्रकार प्रतिदिन उपयोग करना है और आप विश्वास मानिए ऐसा करने से बहुत जल्द ही किडनी की पथरी स्वत: ही निकल जाएगी।

बीयर से

            दोस्तों यह उपाय सिर्फ उन लोगों के लिए है जो शराब का उपयोग कर लेते हैं यदि ऐसे लोगों को गुर्दे में पथरी हो गई है तो इसके लिए आप जितनी अधिक हो सके उतनी अधिक बीयर पिए और एक बात का ध्यान अवश्य रखें कि टॉयलेट जब बर्दाश्त से बाहर हो जाए तभी जाएं तभी पथरी जल्दी निकल पाएगी। दोस्तों हद से हद 7 दिन तक ऐसा करने पर पथरी निकल जाती है

पत्थरचट्टा के पत्ते द्वारा

                               दोस्तों पत्थरचट्टा के पत्ते द्वारा बहुत से रोगों का इलाज किया जाता हैपथरी के इलाज केलिए आप 5 पत्तों को पानी में पीसकर जूस बना लें और अब इस जूस का सेवन करें। ऐसा लगभग 2 माह तक करनेसे आपको फिर कभी भी पथरी की समस्या नहीं होगी दोस्तों इसका पौधा आपके आसपास यदि मिलता है तो बहुत बढ़िया है अन्यथा केवल सिर्फ एक पते को ही मिट्टी में गाड़ने से यह जम जाता है

दोस्तों आप इनमे से चाहे तो कोई भी इलाज को अपना सकते हैं परंतु बिना परहेज के सब कुछ बेकार है अतः आपको इलाज के दौरान हल्के मिर्च, मसालों का उपयोग करना है। भूल कर भी टमाटर, पालक और चावल का उपयोग ना करें। इसके अलावा बीजों वाली सब्जियों का भी कम से कम उपयोग करें पालक के अलावा अन्य सभी हरी सब्जियों जैसे- मूली और मेथी का अधिक से अधिक प्रयोग करें और पानी का हद से ज्यादा प्रयोग करें संभव हो तो हर घंटे एक गिलास पानी अवश्य पिएं। कृपया करके इन सभी बातों को इलाज के दौरान अवश्य प्रयोग में लाएं।

तो दोस्तों मैं आशा करता हूं कि यह सभी जानकारी आप सभी के लिए बहुत ही उपयोगी सिद्ध होगी और आप पथरी को निकालने के घरेलू उपायों के बारे में अच्छी तरह परिचित हो गए होंगे मुझे आप सभी के साथ की बहुत अधिक आवश्यकता है और आप सभी के स्नेह और प्यार की भी आशा है कि मुझे आपसे इसी प्रकार प्यार मिलता रहेगा इसके लिए आप सभी का बहुत-बहुत धन्यवाद

Wednesday, February 20, 2019

Amvla benefits


आंवला के फायदे-


दोस्तों आप सभी का मैं एक बार फिर तहे दिल से मेरे ब्लॉग पर स्वागत करता हूं दोस्तों आज हम जानेंगे कि आंवला के ऐसे कौन कौन सेऔषधीय  गुण हैं जो हमारे लिए बहुत ही हितकारी सिद्ध हो सकते हैं। दोस्तों आंवला भारत में बहुत ही प्रचलित है और इसका मुरब्बाभी बहुत ही प्रसिद्ध है विशेष तौर पर आंखोंऔर वालों से संबंधित समस्याओं में इसका उपयोग एक सामान्य बात है परंतु इनके अलावा भी बहुत से ऐसे रोग हैं जिसमें इसका उपयोग किया जा सकता है। आज हम इस पोस्ट के माध्यम से आपको उन्हीं सभी रोगों में प्रयोग विधि के विषय में बताएंगे तो चलिए प्रारंभ करते हैं
आंवला के फायदे, benifits of amvla

                                                                 आंवला के फायदे

वात, पित्त और बात-

                         आंवला बात, पित्त और कफ तीनों में ही बहुत ही गुणकारी हैक्योंकि शरीर में यदि किसी भी बीमारी का जन्म होता है तो इसके पीछे सबसे बड़ा कारण वात, पित्त और कफ होता है और आंवला के प्रयोग से इन्हीं तीनों कारकों का समाधान होता है जिससे कम से कम बीमारियों का प्रभाव होता है अतः आपको प्रतिदिन दोआब ले का सेवन तो अवश्य करना चाहिए

दीर्घायु के लिए –   

                    दोस्तों वैज्ञानिक इस बात को सिद्ध कर चुके हैं कि आंवला एंटीऑक्सीडेंट फल है क्योंकि हमारे शरीर में ऑक्सीडेशन की क्रिया होती रहती है जिससेहमारी उम्र कम होती जाती है। एंटी ऑक्सीडेंट फल होने के कारण आंवला ऑक्सीडेशन की क्रिया को कम कर देता है जिससे कि हमें दीर्घायु प्राप्त होती है। यही कारण है कि पुराने समय में ऋषि मुनि इतनी ज्यादा अवस्था तक जीवित रह पाते थे अतः हमें इसे अपने भोजन में अवश्य सम्मिलित करना चाहिए

आंवला और एलोवेरा जूस का उपयोग

                                                  आंवला जूस, एलोवेरा का जूस का उपयोग करने से विभिन्न प्रकार के रोग ठीक हो जाते हैं इसको पीने से जिस व्यक्ति को भूख नहीं लगती है उसे भूख लगने लगती है, पेट साफ रहता है, मेटाबॉलिज्म कम रहता है बालों की प्रत्येक समस्या ठीक हो जाती है और इसी प्रकार विभिन्न प्रकार की समस्याओं में लाभ होता है इसको आप सुबह सुबह उठते ही दो से चार चम्मच लेकर गर्म पानी के साथ सेवन करें यदि आप ऐसा प्रतिदिनकरतेहैंतो बहुत जल्दी आपको उपयुक्त सभी समस्याओं में लाभ महसूस होने लगेगा जिन लोगों को आंखों से संबंधित कोई समस्या है जैसे- मोतियाबिंद,कम दिखाई देना, आंखों में दर्द रहना आदि तो वह भी इस जूस का उपयोग कर सकते हैं। इसके अलावा यह स्क्रीन को भी सुंदरता प्रदान करता है और इसका सबसे बड़ा लाभ गठिया रोग में है इसके उपयोग से गठिया रोग तो जड़ से खत्म हो जाता है



हड्डियों के लिए

                    आंवले से बेहतर विटामिन सी का स्रोत कोई नहीं है लगभग 100 ग्राम आंवले में 2 किलो संतरे के बराबर विटामिन होता है इसके अलावा इसमें कैल्शियम और एंटी इन्फ्लेमेटरी की भी पर्याप्त मात्रा होती है जो कि हमारी हड्डियों को मजबूत बनाती है अगर समय रहते इसका इलाज ना किया जाए तो यह आर्थराइटिस जैसे कभी समस्या का रूप ले लेती है।अतः इसके इलाज के लिए आपको प्रतिदिन आंवले का उपयोग करना चाहिए और साथ ही साथ जैसा कि ऊपर बताया गया है कि आंवला और एलोवेरा का जूस भी इसके लिए रामबाण औषधि है

आंखों की रोशनी के लिए

                                   टीवी, मोबाइल और लैपटॉप आदि सभी यंत्रों का उपयोग तो सभी करते हैं क्योंकि लगभग यह सभी यंत्र मानव जीवन की महत्वपूर्ण आधारशिला बन गयेहैं जिसके फलस्वरूप अधिक उपयोग से यह सबसे ज्यादा हानि हमारे नेत्रों को पहुंचाते हैं और इसके फलस्वरूप कम उम्र में ही आंखों पर चश्मा चढ़ जाता है परंतु यदि आंवले को शहद के साथ मिलाकर उपयोग किया जाए तो इससे यह सभी समस्याएं स्वत: ही ठीक हो जाते हैं इसके उपयोग से आंखों की रोशनी ठीक हो जाती है और आंखों के संक्रमित होने का खतरा भी कम हो जाता है
benifits of amvla, amvla ke fayde
आंवला के फायदे

पथरी की समस्या में

                            जिस व्यक्ति को गुर्दे में पथरी बन गई है इसके लिए उसे प्रतिदिन आंवले का जूस प्रयोग में लाना चाहिए इससे पथरी के दर्द मेंआराम मिलता हैऔर साथ ही साथ पथरी गलकर स्वत: ही निकल जाती है

खून साफ करने के लिए

                                   अधिकतर जिन लोगों को मुहांसे,ऑइली स्किन या फिर स्किन संबंधी और कोई भी समस्या खून के गंदा हो जाने के कारण ही होती है इसके लिए आप प्रतिदिन आंवले का जूस का प्रयोग करें क्योंकि इसमें एंटी ऑक्सीडेंट गुण के साथ साथ एंटीबैक्टीरियल गुण भी मौजूद होते हैं जो खून को साफ करने में काफी अधिक मददगार हैं इसके अलावा सौंफ को चबाने से भी खून में उपस्थित अशुद्धियां दूर हो जाती हैं

कैंसर के लिए -

                    बुखार जैसी सामान्य बीमारी की भाँति कैंसर भी आजकल सामान्यता पाया जा रहा है इसके ऊपर मैं अलग से पोस्ट भी लिख चुका हूं अगर आप उसे पढ़ना चाहते हैं तो किसी भी कैंसर शब्द पर क्लिक करें। कैंसर के इलाज में आंवले का उपयोग किया जा सकता है क्योंकि इसमें उपस्थित एन्टीकैंसरगुण कैंसर के सेल्स को कमजोर कर देते हैं और कैंसर का खतरा काफी हद तक कम हो जाता है

सौंदर्य के लिए

                     इसके लिए आपको आंवले के अलावा दो और चीजों की भी आवश्यकता होगी शहद और पपीता जो कि आपको बहुत ही आसानी से उपलब्ध हो जाएंगे। अब इसके पश्चात पपीते की कुछ टुकड़ों को मसल लें और उसमें एक चम्मच आंवले का पेस्ट और आधा चम्मच शहद मिलाकर पेस्ट बना लें। इस पेस्ट को फेस मास्क की तरह अपने चेहरे पर लगा ले और थोड़ी देर सूखने के बाद गुनगुने पानी से धो लें ऐसा करने से आपकी त्वचा की रंगत में गोरा निखार आने लगेगा

लीवर के लिए

                    कभी-कभी गलत खान पान से लीवर कमजोर हो जाता है या अक्सर ही ये देखा जाता है कि छोटे बच्चे खाना हजम नहीं कर पाते क्योंकि उनका लीवर कमजोर होता है तो उसके लिए आपको आंवले और आंवले का जूस का उपयोग करना चाहिए इसके अलावा इसके उपयोग से पाचन शक्ति भी बढ़ जाती है और भूख भी अधिक लगने लगती हैं अतः प्रत्येक व्यक्ति को आंवले का उपयोग अवश्य करना चाहिए

दोस्तों बड़े बूढ़ों ने कहा है कि किसी भी चीज की अधिकता नुकसानदायक होती है अत: आंवले का अधिक प्रयोग नहीं करना चाहिए और इसके उपयोग के बाद भरपूर मात्रा में पानी अवश्य पीना चाहिए अन्यथा यह त्वचा की नमी को कम कर देता है और इसके अलावा इसकी ठंडी तासीर की वजह से सर्दी, खांसी व जुकाम भी हो सकता है अतः आवश्यकतानुसार ही इसे प्रयोग में लाना चाहिए

तो दोस्तों मैं आशा करता हूं कि यह सभी जानकारी आप सभी के लिए बहुत ही उपयोगी सिद्ध होगी और अब आपआंवलेके उपयोग को भी भली-भांति समझ गए होंगे तो आप सभी इसी प्रकार मेरा साथ देते रहिए और हमेशा मुझे इसी प्रकार आप सभी से प्यार मिलता रहे इसी कामना से मैं आप सभी का कोटि-कोटि धन्यवाद करता हूं