Tulsi Ke Fayde


Tulsi Ke Fayde In Hindi-


दोस्तों आज के इस भौतिक युग में प्रत्येक चीजअपनी अपनी चरम सीमा पर बढ़ती हुई दिखाई दे रही है उनमें से एक स्थान बीमारियों का भी है प्राचीन समय में हमारे दादा दादी लोगों का खानपान इस प्रकार का होता थाकी उनमें  बीमारियों के लक्षण भी नजर नहीं आते थे परंतु आज के समय में बिल्कुल इसका विपरीत है आजकल बीमारियों में इंसान नजर नहीं आता। दूसरी ओर ऐसी ऐसी घातक बीमारियों ने वर्चस्व प्राप्त कर रखा है कि इंसान को उनके हो जाने के बाद उस ग्रसित रोगी को फिर कोई आस नहीं रहती कि वह ठीक भी हो पाएगा या नहीं परंतु जरा रुकिए क्या आपने कभी ऐसा सोचा है कि यह आखिर क्यों हो रहा है क्यों दिन-प्रतिदिन इंसान की औसत आयु बढ़ती जा रही है चलिए अब हम आपको इसका कारण बताते हैं। देखिए बीमारियों के चलते रोगी इतना चिंतित हो जाता है कि वह अपने दिमाग में ऐसा बैठा लेता है कि अब मेरी इस बीमारी का कोई इलाज नहीं हैपरंतु वह एक बात भूल जाता है की समस्या के साथ उसका हल भी उसी में निहित होता है अर्थात प्राकृतिक रूप से प्रकृति में सभी बीमारियों की रामबाण औषधियां पहले से ही हमें प्रदान कर रखी हैं परंतु उनका ज्ञान ना होने के कारण हम उनके महत्व को समझ ही नहीं पाते हैं। जी हां दोस्तों हमारे पास तो सभी रोगों के उपचार पहले से ही मौजूद हैं और उनमें से एक है तुलसी। सही सुना आपने तुलसी ऐसी रामबाण औषधि है जिससे कैंसर जैसी बीमारियां भी जड़ से खत्म हो सकती हैं तो चलिए दोस्तों आज हम उसी के महत्व को समझते हैं तो दोस्तों आज हम आपको तुलसी को विभिन्न रोगों में कैसे प्रयोग करें इस विषय पर चर्चा करेंगे तो चलिए हम प्रारंभ करते हैं
gunkari tulsi,tulsi ka mhetwa,tulsi ke upyog in hindi
Tulsi ke fayde

  1. बारिश के मौसम में अक्सर प्रत्येक व्यक्ति सर्दी, जुखाम, बुखार की चपेट में आ जाता है तो इसके लिए पांच तुलसी के पत्ते प्रातकाल उठने के बाद खाने से सर्दी, खांसी, जुकाम, बुखार सभी बीमारियां सही हो जाते हैं।
  2. तुलसी की पत्तियों का उपयोग मुंह के छालों को ठीक करने के लिए किया जा सकता है इसके लिए आप तुलसी के पत्ते कभी भी दिन में चबाते रहिए ऐसा करने से छाले ठीक हो जाएंग
  3. त्वचा से संबंधित समस्याओं में तुलसी के पत्ते के रस को प्रभावितत्वचा पर लगाने से दाद और खुजली जैसी समस्याएं ठीक हो जाती हैं
  4. बहुत तेज बुखार में आप अदरक, तुलसी,मुलेठी को शहद में पीसकर खाने से बुखार में लाभ मिलता है
  5. सिर दर्द, चक्कर आना, सिर का भारी होना और आंखों में जलन होना इन सब के लिए भी आप तुलसी के पत्ते का प्रयोग कभी भी कर सकते हैं
  6. सांस रोग में काले नमक और सुपारी के साथ तुलसी के पत्ते को मुंह में रखकर चूसने से सांस रोग में आराम मिलता हैbadam ke fayde
  7. गला बैठ जाने पर तुलसी के पत्ते को आँच पर सेक कर नमक के साथ खाने से गला ठीक हो जाता है
  8. लगातार यदि किसी व्यक्ति को बुखार आ रहा हो तो इसके लिए तुलसी के पत्ते को सोंठ के साथ सेवन करने से बुखार ठीक हो जाता है
  9. चेहरे पर निखार के लिए भी इसका उपयोग किया जा सकता है इसके लिए इसकी पत्तियों के रस में बराबर मात्रा में नींबू का रस मिलाकर लगाने से झाइयां, मुंहासे,काले घेरे ठीक हो जाते हैं और चेहरे पर गोरा निखार आने लगता है
  10. कोढ़ की बीमारी में तुलसी के पत्ते खाने से और इसके पत्तों के रस को लगाने से कोढ़ की बीमारी भी ठीक हो जाती है
  11. फोड़े को ठीक करने के लिए एक तुलसी के बीज में दो गुलाब के फूल को मिलाकर शरबत बनाकर पीने से फोड़ा ठीक हो जाता है।
  12. जख्म को ठीक करने के लिए उसके ऊपर तुलसी के पत्तों को पीसकर लगाना चाहिए
  13. यदि आपके सिर में हर समय दर्द बना रहता है तो इसके लिए आप एक चम्मच तुलसी के पत्ते के रस में शहद मिलाकर सुबह शाम 15 दिन तक प्रतिदिन सेवन करें ऐसा करने से सिर दर्द हमेशा के लिए ठीक हो जाता है
  14. आंखों से संबंधित किसी भी प्रकार की समस्या के लिए इसके पत्तों के रस को रात्रि में सोते समय आंख में डालने से सभी रोगों में राहत मिलती है और साथ ही साथ नेत्रों की ज्योति भी बढ़ जाती है
  15. गुर्दे की पथरी के लिए इसकी पत्तियों को उबालकर जूस बनाकर शहद के साथ पीने से 6 दिन में पथरी गल कर बाहर निकल जाती है
  16. दिल की बीमारियों के लिए दस तुलसी के पत्ते, 5 काली मिर्च और चार मीठे बादाम को पीसकर एक गिलास पानी में शहद डालकर पीने से दिल के रोग ठीक हो जाते हैं
  17. डिप्रेशन से छुटकारा पाने के लिए आपको प्रतिदिन सुबह-शाम कम से कम 12 पत्तियां अवश्य चबाना चाहिए ऐसा करने से डिप्रेशन कम होने लगता है क्योंकि तुलसी की पत्तियां दिमाग को ठंडक पहुंचाती हैं जिससे डिप्रेशन स्वतःहीशांत होने लगता है
  18. तुलसी के पत्ते विटामिन ए का एक महत्वपूर्ण स्रोत हैअतः रतौंधी को ठीक करने के लिए इसके पत्तों के जूस का उपयोग करना चाहिए
  19. तुलसी की पत्तियों को धूप में सुखाने के पश्चात इसके पाउडर और सरसों के तेल को मिलाकर पेस्टकरने पर मसूड़े मजबूत होते हैं और दातों का दर्द भी ठीक हो जाता है
  20. पेट दर्द और ऐंठनको ठीक करने के लिए भी तुलसी की पत्तियों के जूस का सेवन करना चाहिए।
  21. तुलसी के पत्तों के रस में अदरक का रस मिलाकर पीने से भी पेट दर्द ठीक हो जाता है
  22. बवासीर की बीमारी को जड़ से खत्म करने के लिए तुलसी के बीज के चूर्ण को दही में मिलाकर खाने से यह रोग समाप्त हो जाता है
  23. कान के दर्द को ठीक करने के लिएइसमें कुछ पत्तों को सरसों के तेल में भुनने के बाद लहसुन का रसमिलाकर कान में डालने से कान का दर्द ठीक हो जाता है।
  24. इनफ्लुएंजा में राहत के लिए नमक लोंग और तुलसी के पत्तों का काढ़ा बनाकर पीना चाहिए
  25. यदि छोटे बच्चों को ठंड जकड़ लेती है तो उन्हें उनका दूध तुलसी की पत्तियों में उबालकर पिलाना चाहिए ऐसा करने से उन्हें ठंड नहीं जकड़ती है।
  26. दस्त या गैस की समस्या में 10 से 15 पत्तियाँ सेंधा नमक मिलाकर पानी पीने से यह समस्या ठीक हो जाती है
  27. आग से जलने पर इसके पत्तों के रस को नारियल तेल के साथ मिलाकर जले हुए स्थान पर लगाने से जलन कम हो जाती है
  28. यादाश्त को बढ़ाने के लिए प्रतिदिन चार से पांच पत्ते पानी के साथ साबुतनिगलने से यादाश्त बढ़ती है।
  29. त्वचा की समस्या के लिए इसके पत्तों को तिल्ली के तेल के साथ पकाकर लगाने से त्वचा रोग ठीक हो जाता है
  30. 5 ग्राम तुलसी के बीज को सोते समय गर्म दूध के साथ लेने पर शारीरिक दुर्बलता भी ठीक हो जाती है

तो दोस्तों मैं आशा करता हूं कि यह सभी जानकारी आप सभी के लिए बहुत ही उपयोगी सिद्ध होगी और अब आप सब भली भांति तुलसी के महत्व को भी समझ गए होंगे तो आप बस इसी प्रकार मेरा साथ देते रहिए, आप सभी का बहुत-बहुत धन्यवाद

Previous
Next Post »

for more information plz comment below ConversionConversion EmoticonEmoticon