Sunday, March 10, 2019

Anar ke fayde

Anar ke fayde-

दोस्तों अनार तो सभी को खाना पसंद ही होता है परंतु क्या आप जानते हैं किसके द्वारा विभिन्न प्रकार के रोगों का इलाज संभव है काफी हैरानी होगी आपको इस बात को जानकर परंतु मैं हमेशा कहता हूं कि प्रत्येक खाद्य पदार्थ एक प्रकार की औषधि ही है दोस्तों अनाज में फाइबर के साथ-साथ विटामिन बी सी और के भरपूर मात्रा में उपलब्ध होने के साथ साथ उसने ओमेगा सिक्स भी पाया जाता है तो हमारी पाचन क्रिया खून बढ़ाने के लिए सर्वाधिक प्रमुख है इसके अलावा भी रोग में रामबाण औषधि है आज हम आप सभी को अपनी इस पोस्ट के माध्यम से यही बताएंगे किन किन किन रोगों का इलाज किया जा सकता हैपरंतु उससे पहले एक बात और जान लेते हैं कि अनार में और कौन-कौन से तत्व पाए जाते हैं
anar ke fayde janne hindi mein ,  anar ke fayde in pregnancy,  7 din anar khane ke fayde,  anar ke chilke ke fayde in hindi,  safed anar ke fayde,  anar ke beej ke fayde,  anar ke fayde for skin,  anar khane ka time
Anar ke fayde

1.एलीगिक एसिड
2.एंटी ऑक्सीडेंट गुण
3.पॉली अनसैचुरेटेड फैटी एसिड
4.ओमेगा 5,6
9.विटामिन ए,सी और ई
10.राइबोफ्लेविन

सुंदरता पाने के लिए

                             सुंदरता पाना प्रत्येक व्यक्ति की चाहत होती है इसके लिए आप अनार को अपने आहार में शामिल करें या फिर कम से कम एक गिलास अनार का जूस तो अवश्य पियें।दोस्तों लगभग 1 माह तक इसका जूस पीने से हमारी त्वचा बेदाग बनती है और सुंदरता भी निखर कर आती है। इसके साथ साथ बढ़ती उम्र के प्रभाव भी त्वचा पर धीमी गति से होते हैं। वर्ष 2006 में एक शोध में यह सामने आया कि अनार कोलेजन संश्लेषण को बढ़ावा देकर और मेटालोप्रोटेनुस का उत्पादन रोककर त्वचा को जवान बनाए रखता है।

खून बढ़ाने में सहायक

                               दोस्तों अनार का सबसे बड़ा लाभ यही है कियह खून की मात्रा को बढ़ाने में सबसे अधिक लाभकारी है। दोस्तों इसमें उपस्थित बीज भी इसके जूस की तरह लाभकारी है और यही बीज खून बढ़ाने में सहायता करते हैं। इसके अलावा दोस्तों चुकंदर के द्वारा भी खून की मात्रा को बढ़ाया जा सकता है अगर आप चाहे तो मैंने चुकंदर के ऊपर एक अलग से पोस्ट लिखी हुई है आप उसे भी पढ़ सकते हैं
जरूर पढ़े–(Beetroot ke fayde)

पाचन क्रिया में सहायक - 

                                अनार पाचन क्रिया में बहुत अधिक सहायक है यह लीवर को मजबूत बनाता है जिससे पाचन क्रिया सुचारु रुप से होने लगती है इसके अलावा जिस व्यक्ति को भूख नहीं लगती है इसके प्रतिदिन उपयोग से उसे पर्याप्त भूख लगने लगती है अनार में उपस्थित फाइबर की मात्रा भी पाचन तंत्र के लिए बहुत अधिक लाभकारी है अतः आपको कम-से-कम प्रत्येक दिनएकअनार का सेवन तो अवश्य करना चाहिए
anar ke fayde janne hindi mein ,  anar ke fayde in pregnancy,  7 din anar khane ke fayde,  anar ke chilke ke fayde in hindi,  safed anar ke fayde,  anar ke beej ke fayde,  anar ke fayde for skin,  anar khane ka time
Anar ke fayde


अर्थराइटिस में लाभकारी

                                   अनार का उपयोग अर्थराइटिस के रोगी को विशेष तौर पर करना चाहिए। क्योंकि इसके उपयोग से ये  जोड़ों के अंदर और बाहर आई सूजन को कम कर देता है और साथ ही साथ दर्द में भी राहत प्रदान करता है। दोस्तों अनार के अलावा ऐसे बहुत से उपाय हैं जिनके द्वारा अर्थराइटिस को जड़ से खत्म किया जा सकता है अगर आप उन्हें पढ़ना चाहते हैं तो मैंने एक अलग से पोस्ट लिखी हुई है आप उसे पढ़ सकते हैं
जरूर पढ़ें –(Arthritis ke gharelu upay)

उच्च रक्तचाप में

                        अक्सरयह बीमारी हर दूसरे या तीसरे व्यक्ति में देखने को मिल जाती है औरयह इतनी गंभीर बीमारी है कि इसके रहते आपको ब्रेन हेमरेज और पैरालाइसिस जैसी बीमारियां भी हो सकती हैं परंतु अनार के इस्तेमाल से हाई ब्लड प्रेशर को कंट्रोल किया जा सकता है इसमें उपस्थित एंटीऑक्सीडेंट गुण और विटामिन सी और नाइट्रिक ऑक्साइड की मात्रा इसको कंट्रोल करने में मददगार है। साथ ही साथ यह रक्त प्रवाह करने वाली धमनियों को भी पोषित करता है जिससे व्यक्ति को हार्ट अटैक आने का खतरा काफी हद तक कम हो जाता है

एनीमिया के उपचार में सहायक

                                            एनीमिया से ग्रसित रोगी को तो अनार अमृत समान है क्योंकि इसमें उपस्थित आयरन की मात्रा लाल रक्त कणिकाओं की संख्या को बढ़ाकर हीमोग्लोबिन की मात्रा में बढ़ोतरी करताहै जो कि एनीमिया से लड़ने में शरीर का पूर्ण रूप से सहयोग करता है। इसके अलावा इसमें उपस्थित विटामिन सी की मात्रा भी काफी हद तक एनीमिया को समाप्त करने में मददगार है

पीलिया रोग में

                    पीलिया रोग में जैसा कि हम सभी जानते हैं कि खून की मात्रा काफी हद तक कम हो जाती हैऔर इसी कारण आंखें और शरीर पीला होने लगता है परंतु अनार के द्वारा पीलिया को दो प्रकार से खत्म किया जा सकता है

1.इस नुस्खे को बनाने के लिएआप 200 से 300 ग्राम अनार के रस में चीनी मिलाकर उसकी चासनी बना लेंऔरप्रतिदिनलगभग 25 से 30 ग्राम चासनी को पानी में मिलाकर दिन में कई बार उपयोग करें ऐसा करने से बहुत जल्द ही पीलिया रोग ठीक हो जाता है

2.इस नुस्खे के लिए आप अनार के छिलकों को सुखा लें और फिर उनका चूर्ण बना ले और अब इस चूर्ण की लगभग 6 ग्राम मात्रा को प्रतिदिन सुबह गाय के छाछ के द्वारा सेवन करें ऐसा करने से 2 से 3 दिन में ही पीलिया ठीक हो जाता है
anar ke fayde janne hindi mein ,  anar ke fayde in pregnancy,  7 din anar khane ke fayde,  anar ke chilke ke fayde in hindi,  safed anar ke fayde,  anar ke beej ke fayde,  anar ke fayde for skin,  anar khane ka time
Anar ke faye

टीवी के उपचार में

                         टीवी के उपचार के लिए अनार बहुत ही लाभकारी है इसके उपचार के लिए अनार को निम्न प्रकार प्रयोग किया जा सकता है
इसके लिए आप पके हुए लगभग 200 ग्राम अनार के रस में 40 ग्राम छोटी पीपल का चूर्ण, 40 ग्राम जीरा का चूर्ण, 40 ग्राम सोंठ का चूर्ण, 40 ग्राम दालचीनी पाउडर, 10 ग्राम केसर मिलाकर उसमें 200 ग्राम पुराना गुण मिला ले और फिर इन्हें एक साथ पकाकर उसमें 10 ग्राम इलायची का चूर्ण डालें और इस मिश्रण को तैयार कर लें। इस मिश्रण की आप छोटी-छोटी गोलियां बना लें और फिर इनमेंसे आप एकएक गोली का सुबह शाम एक ग्लास दूध के साथ सेवन करें। इसी प्रकार प्रतिदिन इसका सेवन करते रहने से टीवी लोग हमेशा के लिए नष्ट हो जाता है

बहरापन दूर करने के लिए

                                       दोस्तों भगवान के द्वारा दिया गया प्रत्येक अंग बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका अपनी अपनी जगह रखे हुए हैं और इनमें से कानऔरआँख तो बहुत ही ज्यादा जरूरी है। परंतु बुढ़ापे के चलते या फिर किसी और समस्या के रहते कभी कभी कुछ व्यक्तियों को सुनना बंद हो जाता है जिसका कारण उन्हें तो परेशानी होती है साथ ही साथ दूसरे व्यक्ति को भी उनसे कोई बात कहना यासमझना उतना ही कठिन होता है परंतु यदि ऐसे व्यक्ति अनार का उपयोग करें तो इस समस्या से निजात पा सकते हैं। इसके लिए वे आधा लीटर अनार का रस लेकर उसमें आधा लीटर बेल के पत्तों का रस और 1 किलो देसी घी एक साथ मिलाकर उसे आग पर पकाएं और तब तक पकाएं जब तक कि केवल घी ही ना रह जाए और फिर से आग पर से हटा ले अब आप इसके दो चम्मच को दूध के साथ प्रतिदिन लें। ऐसा करने से 100% बहरापन ठीक हो जाता है

सिफलिस में लाभकारी

                                    दोस्तों यह बहुत ही गंभीर बीमारी है इसके इलाज के लिए आप लगभग 200 ग्राम अनार के ताजे पत्तों को पीसकर 1 लीटर पानी में उबाल लें और तब तकउवाले जब तक की पानी आधा नरह जाए।अब इसे छानकर दो से तीन बार घाव पर लगाएं ऐसा करने से सिफलिस में काफी अधिक आराम मिलता है और इसके अलावा आप इसके पत्तों को सुखाकर चूर्ण बना लें और सुबह शाम इस चूर्ण की लगभग 10 ग्राम मात्रा को पानी के साथ सेवन करें ऐसा करने से भी सिफलिस में लाभ मिलता है

दोस्तों में आशा करता हूं कि यह सभी जानकारी आप सभी के लिए बहुत ही लाभकारी होगी कृपया इसे ज्यादा से ज्यादा शेयर करें ताकि एक स्वस्थ भारत का निर्माण हम सभी मिलकर कर सके और आपका शेयर करना ही ेरी मेहनत का फल होगा।

1 comment:

  1. Great info Sir! I recently came across your blog and have been reading along. I thought I would leave my first comment. I don’t know what to say except that I have. My Blog Techlifeware

    ReplyDelete

for more information plz comment below