Triphala churna benefits in hindi

Triphala churna benefits in hindi-

त्रिफला एक प्रकार की बहुत ही उपयोगी औषधि है जो की विभिन्न प्रकार के रोगों का इलाज करने में काम आती है। त्रिफला का अर्थ होता है तीन फल अर्थात यह औषधि तीन फलों को मिलाकर बनाई जाती है जो कि निम्न प्रकार है आंवला, बहेड़ा और हरड़। इन तीनों को उचित मात्रा में सुखाकर पीसने पर त्रिफला का निर्माण किया जाता है। ऐसे बहुत से रोग हैं जिनको त्रिफला के द्वारा ठीक किया जा सकता है परंतु यह बात बहुत ही कम लोग जानते हैं। तो चलिए अब हम सभी जान लेते हैं किइसके द्वारा किन-किन रोगों का सफल इलाज किया जा सकता है

triphala churna side effects in hindi,  patanjali triphala churna dosage,  benefits of triphala churna weight loss in hindi,  triphala churna ka sevan kaise kare,  triphala in hindi meaning,  triphala churna ingredients in marathi,  baidyanath triphala churna ke fayde,  triphala churna ke nuksan in hindi,
Triphala churna benefits in hindi

एसिडिटी में

                एसिडिटी के हो जाने पर त्रिफला, जीरा, पीपल और काली मिर्च को बराबर मात्रा में लेकर पीसकर उसका चूर्ण बना लेऔर प्रतिदिन एक चम्मच चूर्ण को सुबह शहद के साथ खाएं ऐसा करने से बहुत ही जल्दी एसिडिटी की समस्या ठीक हो जाती है। इसके अलावा केवल त्रिफला चूर्ण को भी आधा चम्मच लेकर दिन में दो से तीन बार पानी के साथ खाने से इस समस्या में लाभ मिलता है

आंखों के लिए लाभकारी

                           आंखों से संबंधित किसी भी प्रकार की समस्या में त्रिफला के उपयोग से लाभ प्राप्त किया जा सकता है। इसके लिए आप लगभग 10 ग्राम त्रिफला को रात को पानी में भिगोकर रख दें और सुबह इस पानी को छानकर इस पानी से आंखों को अच्छी तरह धोएं ऐसा करने से कुछ ही दिनों में आंखें पूर्ण रूप से स्वस्थ हो जाती हैं और यदि किसी व्यक्ति के नेत्रकी ज्योति कम होती है तो वह भी ठीक हो जाती है

एक्जिमा में

              इस रोग से पीड़ित व्यक्ति को इसके इलाज के लिए निम्न नुस्खे को अपनाना चाहिए। इस नुस्खे को बनाने के लिए आप त्रिफला, बच, कुटकी, दारू, मजीठ, हल्दी, नींबू की छाल तथा गिलोय को समान मात्रा में लेकर पीस लें और इस पाउडर में पानी मिलाकर काढ़ा तैयार कर ले। अब आप इस कार्य को दिन में तीन से चार बार में थोड़ी-थोड़ी मात्रा में थोड़े-थोड़े अंतराल के बाद पियें। ऐसा करने से कुछ ही दिनों में अजमा रोग ठीक हो जाता है
triphala churna side effects in hindi,  patanjali triphala churna dosage,  benefits of triphala churna weight loss in hindi,  triphala churna ka sevan kaise kare,  triphala in hindi meaning,  triphala churna ingredients in marathi,  baidyanath triphala churna ke fayde,  triphala churna ke nuksan in hindi,
Triphala churna benefits in hindi

दिमाग के कीड़ों को नष्ट करने में

                                       दोस्तों दिमाग के कीड़ों को खत्म करने के लिए आप 200 ग्राम त्रिफला के चूर्ण में 100 ग्राम खांड मिला दे और प्रतिदिन इसमें से 10 ग्राम चूर्ण का पानी के साथ सेवन करें ऐसा करने से 100 प्रतिशत दिमाग के कीड़े नष्ट हो जाते हैं। इसके अलावा इस नुस्खे से हृदय भी मजबूत होता है।

पथरी के उपचार में

                    पथरी का रोग एक ऐसा रोग है जो कि बहुत ही कष्टकारी होता है परंतु यदि घरेलू उपायों का प्रयोग किया जाए तो इसका इलाज किया जा सकता है और इनमें से एक उपाय है त्रिफला के द्वारा इसके लिए आप पाषडभेद, साठी की जड़ और गोखरू तीनों को पांच 5-5 ग्राम लेकर 14 ग्राम त्रिफला और 10ग्राम अमलतास के गूदे में अच्छी तरह मिलाकर इन सब को 500ml पानी में डालकर उबालें और जब यह पानी 100ml रह जाए तब इसे छानकर सुबह व शाम पियें। कुछ ही दिनों में प्रतिदिन इसके उपयोग से पथरी गल कर निकल जाती हैं।
जरूर पढ़े-(kidney stone ke upay)

प्रमेह रोग में-

                वीर्य में किसी भी प्रकार का विकार आ जाने पर वह प्रमेह रोग कहलाता है। इसरोग को ठीक करने के लिए आप त्रिफला, देवदारु, दारूहल्दी तथा नागरमोथा को समान मात्रा में लेकर उसका काढ़ा बना ले और प्रतिदिनइस काढ़े का सुबह व शाम सेवन करें ऐसा करने से लगभग 15 दिन के अंदर ही प्रमेरोग ठीक हो जाता है
triphala churna side effects in hindi,  patanjali triphala churna dosage,  benefits of triphala churna weight loss in hindi,  triphala churna ka sevan kaise kare,  triphala in hindi meaning,  triphala churna ingredients in marathi,  baidyanath triphala churna ke fayde,  triphala churna ke nuksan in hindi,
Triphala churna benefits in hindi

मोतियाबिंद के उपचार में

                            मोतियाबिंद के उपचार के लिए 6 से 12 ग्राम त्रिफला चूर्ण को 12 से 24 ग्राम घी में मिलाकर दिन में तीन बार लें ऐसा करने से मोतियाबिंद ठीक हो जाता है। इसके अलावा त्रिफला के पानी से आंखों को धोने पर भी मोतियाबिंद ठीक हो जाता है। इसके पानी के लिए आप रात को थोड़ा सा त्रिफला चूर्ण पानी में भिगोकर रखदें और सुबह इसे छानकर इससे आंखों को धोए कुछ ही दिनों में इसके प्रयोग से मोतियाबिंद 100% ठीक हो जाता है
जरूर पढ़े-(Tulsi ke fayde)

यकृत के बढ़ने पर

                 यकृत के बढ़ने पर 20 ग्राम त्रिफला के चूर्ण को120ml पानी में उबालें और जब यह पानी एक चौथाई रह जाए तब इसे छान ले और ठंडा हो जाने पर इसमें 6 ग्राम शहद मिलाकर पिए ऐसा करने से लगभग 1 सप्ताह के अंदर यकृत अपनी सामान्य अवस्था में आ जाता है

फेफड़ों में पानी भरने पर

                                फेफड़ों में पानी भर जाने पर लगभग 1 ग्राम त्रिफला के चूर्ण में 1 ग्राम शिलाजीत और 15 ग्राम गाय के मूत्र को मिलाकर दिन में दो बार पीने से बहुत जल्दी आराम मिलता है

बालों के झड़ने पर

                    झड़ते बालों को रोकने के लिए लगभग 2 से 6 ग्राम त्रिफ़ला और लोहा भस्म को एक साथ मिलाकर सेवन करने से बालों का झड़ना बंद हो जाता है और बहुत ही जल्द बाल घने, काले और चमकदार हो जाते हैं।

तो दोस्तों मैं आशा करता हूं कि ये सभी जानकारी आपके लिए बहुत ही लाभकारी होगी और आप सभी का प्यार,स्नेह और साथ मुझे इसी प्रकार मिलता रहेगा जिसके लिए आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद। दोस्तों मैं समय-समय पर नई नई जानकारी आपके लिए लाता रहता हूं जिसके लिए आप सभी का बहुत सारा प्यार भी मिलता है यदि आपको मेरे द्वारा दी जाने वाली जानकारी रोचक लगती है तो कृपया इसे शेयर अवश्य करें क्योंकि यही मेरी मेहनत का फल होगा
Previous
Next Post »

for more information plz comment below ConversionConversion EmoticonEmoticon