Friday, July 19, 2019

सांप की मणि-मुंशी प्रेमचंद


सांप की मणि-मुंशी प्रेमचंद

मैं जब जहाज पर नौकर था तो एक बार कोलंबो भी गया था। बहुत दिनों से वहां जाने का मन चाहता था, खासकर रावण की लंकापुरी देखने के लिए। कोलकाता से 7 दिन में जहाज कोलंबो पहुंचा। मेरा एक दोस्त किसी कारखाने में नौकर था। मैंने पहले ही उसे खत डाल दिया था।वह घाट पर आ पहुंचा था। हम दोनों गले मिले और कोलंबो की सैर करने चले। जहाज वहां 4 दिन रुकने वाला था। मैंने कप्तान साहब से 4 दिन की छुट्टी ले ली थी
नागमणि कहां मिलती है,  नागमणि कैसे प्राप्त करें,  नागमणि पिक्चर,  नागमणि की पिक्चर,  नागमणि कहां है,  नागमणि बिहार,  naag mani,  नागमणि की फिल्म,  सांप की मणि story written by munshi premchand
सांप की मणि-मुंशी प्रेमचंद


जब हम दोनों खाना खा पी चुके तो गपशप होने लगी। वहां के सीप और मोती की बात छिड़ गई। मेरे दोस्त ने कहा, यह सब चीजें तो यहां समुद्र से निकलती ही हैं आसानी से मिल भी जाएंगी। मगर मैं तुम्हें एक ऐसी चीज दूंगा जो शायद तुमने कभी ना देखी हो। हां, उसका हाल किताबों में पढ़ा होगा

मैंने आश्चर्य से पूछा वह कौन सी चीज हैउसने कहा, सांप की मणि। मैं चौंक उठा और बोला, सांप की मणि उसका नाम तो मैंने किस्से कहानियों में सुना है, उसका मोल तो 7 बादशाहों के बराबर होता है। क्या असली सांप की मणि।

वह घर से बोला, हां भाई, असली मणि तुम्हें मिल जाए तो मानोगे। मुझे विश्वास ना हुआ।वह फिर बोला, यहां 50 किस्म के सांप है मगर मणि एक ही तरह के सांप के पास होती है उसे कालिया कहते हैं। यह बात तो है कि यह चीज बहुत मुश्किल से मिलती है। पचासों में शायद एक के पास निकले, मगर मिलती जरूर है। मैंने सुना था कि सांप मणि को अपने सिर पर रखता है, मगर यह बात गलत निकली।

मेरे दोस्त ने कहा कि मणि उसके मुंह में होती है। मैंने आश्चर्य से पूछा,तो मुंह के अंदर से चमक कैसे नजर आती है? दोस्त ने हंसकर कहा, जब उसे रोशनी की जरूरत होती है तो वह किसी साफ़ पत्थर पर उसे सामने रख देता है। उस वक्त जरा भी खटका हो तो वह झट मणि को मुंह में दबाकर भाग जाता है। उसकी यह आदत कि जहां एक बार मणि को निकालता है वही बार-बार आता है। मैं आज ही अपने आदमियों से कह देता हूं और वे लोग कहीं ना कहीं से जरूर खबर लाएंगे

2 दिन गुजर गए, तीसरे दिन शाम को मेरे दोस्त ने मुझसे कहा, लो भाई, मणि का पता चल गया। मैं झट उठ खड़ा हुआ और अपने दोस्त के साथ बाहर गया। वह आदमी खड़ा था जो मणि की खबर लाया था। कहने लगा, अभी मैं एक सांप को मणि से खेलते देख आया हूं। अगर आप इसी वक्त चलें तो मणि हाथ आ सकती है। हम तुरंत उसके साथ चल दिए। थोड़ी देर में, हम सब एक जंगल में पहुंचे। उस आदमी ने एक तरफ उंगली से इशारा करके कहा, वह देखिए सांप मणि रखे बैठा है

मैंने उस तरफ देखा तो सचमुच 20 गज की दूरी पर एक सांप फन उठाए बैठा था और उसके आसपास उजाला हो रहा था। पहले तो मैंने समझा कि शायद जुगनू हो, पर रोशनी ठहरी हुई थी। जुगनू की चमक चंचल होती है, कभी दिखाई देती है, कभी गायब हो जाती है। मैं बड़ी देर तक सोचता रहा कि किस उपाय से मणि हाथ लगे। आखिर मैंने उस आदमी से कहा, मुझसे बड़ी गलती हुई कि बंदूक नहीं लाया, इसे मारकर मणि को उठा लेता
उस आदमी ने कहा, बंदूक की कोई जरूरत नहीं साहब,आप थोड़ी देर रूकिये, मैं अभी आया। यह कह कर वह कहीं चला गया। थोड़ी देर बाद कुछ हाथ में लिए लौटा

मैंने पूछा, तुम्हारे हाथ में क्या है? उसने कहाकीचड़। मैंने पूछा, कीचड़ का क्या होगा? उसने कहा, चुपचाप देखिए, मैं क्या करता हूं।वह चुपके से एक पेड़ पर चढ़ गया और मुझे भी चढ़ने का इशारा किया। मैं भी ऊपर चढ़ा। तब वह डाली पर होता हुआ ठीक सांप के ऊपर आ गया और एकाएक उस मणि पर कीचड़ फेंक दिया। अंधेरा छा गया। सांप घबराकर इधर-उधर दौड़ने लगा। थोड़ी देर के बाद पत्तियों की खरखड़ाहट बंद हो गई। मैंने समझा सांप चला गया। मैं पेड़ से उतारने लगा। उस आदमी ने मुझे पकड़ लिया और कहा, भूल कर भी नीचे नहीं जाइएगा, नहीं तो घर तक नहीं पहुंचेगें। वह सांप यहीं पर कहीं ना कहीं छुपा बैठा है। हम दोनों ने उसी पेड़ पर रात काटी

दूसरे दिन सुबह होते ही हम दोनों इधर-उधर देखकर नीचे उतरे। साथी ने कीचड़ हटा दिया। मणि नीचे पड़ी थी। मैं खुशी के मारे मतवाला हो गया

जब हम दोनों घर पहुंचे तो मेरे दोस्त ने कहा, अब तुम्हें विश्वास आया या अब भी नहीं। मैंने कहा, हां,सांप के पास से से लाया हूं जरूर, मगर मुझे अभी तक संदेह है कि यह वही मणि है जिसका मोल  सात बादशाहों के बराबर है

दरयाफ्त करने पर मालूम हुआ कि यह एक किस्म का पत्थर है जो गर्म होकर अंधेरे में जलने लगता है। जब तक वह ठंडा नहीं हो जाता, इसी तरह चमकता रहता है। सांप इसे दिन भर मुंह में रखता है ताकि यह गरम रहे। रात को वह इसे किसी जंगल में निकालता है और इसकी रोशनी में कीड़े मकोड़े खाता है

No comments:

Post a Comment

for more information plz comment below